दूरी

तेरे खयालों से खुद को दूर कर सकूं
इतनी अदब मेरे दिल में कहाँ
ये जुर्म तुझसे कबूल कर सकूं
इतनी तू मेरे पास कहाँ

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.