कहानी

ये तो खेल हैं बस सियासतगरों का
नहीं जोधा या पद्मावती की कहानी
जो दिखा रहे हैं सीना तान के दिलेरी
उनकी तो आदत हैं तख़्त की दलाली

चलो मान भी लो हैं सारे इलज़ाम सही
जिनपे हैं ऊँगली उठी वह हैं मुजरिम भी
मगर धमका के एक नारी को रखी लाज हमारी
क्या ये गर्व से कहेगी हमारी रानी?

India has had a complex history with multiple versions of the same events. Any intentional efforts to malign respected figures who sacrificed in the making of our nation should be discouraged – I support that. But no one has to live in the fear of their life if ever there is such an act in question. #Padmavati

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.